Poem IX: अमरत्व किसी को नहीं प्राप्त


तब जब मैं

रात के उगने पर

महफ़िल सजाकर

देश के भविष्य से लेकर जीवन मूल्यों तक

सुलगती सिगरेट के साथ कर रहा होता हूँ विचार विमर्श

 

वो बस्ती के

किसी कोने में

निश्चिन्त भाव से

तकिया सर के नीचे दबा

ऊंघ रहा होता है

Image

जानता है

सबकुछ वैसा ही रहेगा जैसा था कल

 

और मैं इस मुगालते मैं जीता हूँ

कि

अमरत्व किसी को नहीं प्राप्त

Image

Poem IX: नासूर


मेरी विडम्बना मेरे नेता

जो पारंगत हैं चिकनी चुपड़ी बातें करने में

मेरा दुःख

शब्दों का अर्थ पहचानने कि ताकत

जिसने तोडा है जख्मी किया है

मेरी फसल

मेरे नेताओं के वादे

जिन्हे उन्होंने कभी पूरा नहीं किया

मेरी कमाई

नासूर

अब नासूर के बारे में क्या लिखूं

सिवाए इसके कि यह सदैव मेरे साथ है

Poem VIII: क्रोध


Image

मैं चाहता था कि

मेरी आँख का गिरता हुआ पानी

उसकी हथेली पर गिरे

लेकिन तब मालूम नहीं था

कि मेरी आँख से पानी नहीं

भाप निकलती है आजकल

और

उसकी हथेलियाँ मोम के  खिलोनो सी

भाप को छूने से पिघल जायेंगी

Poem VII: स्थिति


मैं आजकल जहाँ कहीं भी होता हूँ

एक धरधराती हुई बस मेरा पीछा करती है

ताजुब कि बात है बस में कोई चालक नहीं

बस में अजीब अजीब चेहरे वाले लोग हैं

सींग वाले लोग चार आँख वाले लोग, तीन हाथ वाले लोग

वो मेरी लाचारी और नाकामयाबी पर लगाते हैं जोरदार ठहाके

और तभी वो स्वपन जो मैं तीन सालों से पाल रहा हूँ

बस कुचल देती है

पर क्या रपट करूं बस का कोई नंबर हो तो !!

Poem VI: सपना खरीदेगा


Image

सोचता हूँ

उसने किस खूँटी पर

टांगे होंगे अपने सपने

 

रास्ते पर खड़ा

पैसों को रुपये बनता रहा है

हर ठोकर को नकारता रहा है

 

मुझे आज गाडी में बैठा देखकर बोला

सलाम साहब

मैं चुप रहा कुछ देर

फिर उसे आठ आने दे दिए

 

उसने फिर कहा

सलाम साहब

 

सोचता हूँ

आठ आने से वो कौन सा

सपना खरीदेगा