Poem III : चाँद बेबाकी से


चाँद बेबाकी से आज सुबह सूरज कि खिल्ली उडाता बहुत देर खड़ा रहा

बोला

अब तो तुमपर भी दाग पड़ने लगे हैं

पहले जो अधर्म रात के अन्धेरे मैं हुआ करते थे

वो सेंध अब दिन दहाड़े पड़ जाती है

चाँद बेबाकी से आज सुबह सूरज कि खिल्ली उडाता बहुत देर खड़ा रहा

Poem IV : एकलव्य का आंगूठा काटना पड़ता है


Image

बचपन में पापा ने साफ़ साफ़ कहा था

आदर्श जीवनियां कहानियाँ हैं

और उनकी सार्थकता

नक़ल कर या रट कर

परीक्षा पास करना

 

ठाट बाट से जीने के लिए बेटा

रना प्रताप नहीं मान सिंह बनाना पड़ता है

 

जान लो

यह ईमानदारी के किस्से

यह तोता रट बातें

व्यर्थ कि शिक्षा

नकली परीक्षा

चलती रहेगी देर तक

पर सर्वश्रेष्ठ होने के लिए

एकलव्य का आंगूठा काटना पड़ता है

 

सोचता हूँ तब तो समझ नहीं आया था यह ज्ञान

और अब क्या करूं ?

Image

Poem V : परिभाषा


तुमने कहा
और
मैंने माना

इससे भी
कुछ
अलग होती है
प्रेम कि परिभाषा?

रामलाल का नज़रयिा : कविता होती क्या है ? :


Image

वो जो उतार देना चाहते हैं कविताओं मं अपने व्यक्तिगत दुःख

हस्पताल मैं भर्ती हो जायें और डाक्टर को अपने कष्ट सुनायें

कविताएँ दर्द निवारक गोलियां नहीं, जिन्हे खाया जाए दर्द मिटाया जाये

किन्तु हाँ, वो बन सकती  हैं गोलियां जो दागी जायें उनपर

जो कष्ट के कारण हुआ करते हैं